इसरो के वैज्ञानिक मक्खन पर नहीं, पत्थर पर लकीर खींचने वाले लोग हैं – नरेंद्र मोदी

0
264

नई दिल्ली, आज मध्य रात्रि चंद्रयान-2 के चांद पर उतरने से ठीक 2.1 किलोमीटर पहले लैंडर विक्रम का इसरो कंट्रोल सेंटर से संपर्क टूट गया और वैज्ञानिक परेशान हो गए। कुछ पलों के लिए अंधेरा छा गया। वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसरो कंट्रोल सेंटर से वैज्ञानिकों को संबोधित किया। उन्होंने संबोधन के दौरान कहा कि विज्ञान में असफलता नहीं होती बल्कि प्रयास और प्रयोग होते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र ने कहा कि हमें अपने वैज्ञानिकों पर गर्व है । इसी बीच प्रधानमंत्री ने इसरो अध्यक्ष के सिवन को गले लगाया और वह भावुक हो गए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनकी पीठ थपथपा कर उन्हें हौसला दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here