‘‘विश्व संसद का समय अब आ गया है’’ – डॉ. जगदीश गाँधी

0
626
नई दिल्ली, 14 नवम्बर (सुधीर सलूजा):- सिटी मोन्टेसरी स्कूल द्वारा आयोजित ‘‘19वीं विश्व के मुख्य न्यायाधीशों के अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन’’ में पधार रहे 70 देशों के 370 प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति एवं न्यायविदों व कानूनविदों का स्वागत समारोह आज बहाई हाउस ऑफ वर्शिप, नई दिल्ली में आयोजित किया गया। यह सम्मेलन भारत के संविधान के अनुच्छेद 51 के तहत 14 से 20 नवम्बर, 2018 तक आयोजित किया जा रहा है।
इस अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन के संयोजक डॉ. जगदीश गाँधी ने कहा कि ‘‘विश्व के 2.5 अरब बच्चों और उनकी पीढ़ियों के भविष्य के लिए विश्व के सभी राष्ट्रों के लिए एक चिन्ता का कारण है और विश्व संसद दुनिया को एकजुट करने के लिए एक मजबूत धागे का काम कर रहा है।’’ उन्होंने आगे कहा कि यह ऐतिहासिक सम्मेलन दुनिया के बच्चों के भविष्य की रक्षा करने के लिए समर्पित है, जो विश्व के नेताओं को एक साथ आने और तीसरे विश्व युद्ध के विस्फोट से पहले विश्व संसद बनाने की मांग करते हैं, जो यदि होता है, तो परमाणु युद्ध होगा।
डॉ. जगदीश गाँधी ने कहा कि भारत के संविधान के अनुच्छेद 51 के आधार पर इस ऐतिहासिक सम्मेलन में विश्व की एकता और विश्व शांति लाने के द्वारा दुनिया के बच्चों के भविष्य की सुरक्षा के लिए समर्पित है। पिछले 19 वर्षो से लखनऊ में आयोजित इस सम्मेलन के माध्यम से सिटी मोंटेसरी स्कूल विश्व की एकता, विश्व शांति, न्याय और बाल अधिकारों की भावनाओं को प्रज्जवलित कर रहे हैं और 19वां अंतर्राष्टींय सम्मेलन इस दिशा में एक और कदम आगे बढ़ाना है।
इस संदर्भ में श्री शिशिर श्रीवास्तव, हेड, इण्टरनेशनल रिलेशन्स ने बताया कि महामहिम श्री कगेलिमा मोतलान्थे, राष्ट्रपति, रिपब्लिक, दक्षिण अफ्रीका (2008-2009), महामहिम श्री स्टेपान मैसिक, राष्ट्रपति, क्रोशिया गणराज्य (2000-2010), महामहिम सुश्री अमीना गुरीब-फकीम, राष्ट्रपति, रिपब्लिक आफ मारिशस (2015-2018), श्री लाकोबा टी. इटालेली, गर्वनर जनरल, तुवालु, माननीय डॉ. पकालीथा बी. मोसिसिली, प्रधानमंत्री, लेसोथो (1998-2012 तथा 2015-2017), माननीय न्यायमूर्ति श्री अन्थोनी थॉमस एक्यूनस कारमोना, ट्रिनिनाड एवं टोबोको के 5वें राष्ट्रपति (2013-2018) एकत्रित हो रहे हैं।
श्री श्रीवास्तव ने बताया कि सिटी मोन्टेसरी स्कूल, लखनऊ पिछले 19 वर्षो से लगातार 2.5 अरब बच्चों और उनकी आने वाली पीढ़ियों के भविष्य को सुरक्षित करने के लिए निरन्तर प्रयास कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here