कैनिस वेलफेयर पेट क्लब ने निशुल्क एंटी रेबीज और जन जागरूकता शिविर का किया आयोजन।

0
544
नई दिल्ली (सुधीर सलूजा), कैनिस वेलफेयर पेट क्लब आवारा कुत्तों के लिए हर साल निशुल्क एंटी रेबीज वैक्सीनेशन अवेयरनेस कैम्प का आयोजन करता है। इस साल इस आयोजन के लगातार 10 साल पूरे हो गए हैं और 28 सितंबर से शुरू यह जन जागरूकता शिविर 28 अक्तूबर तक चलेगा। इसका मकसद दिल्ली – एनसीआर क्षेत्र में रेबीज को लेकर जागरूकता पैदा करना है। यह आयोजन दक्षिण दिल्ली नगर निगम के वेटरिनरी सर्विस डिपार्टमेंट, दिल्ली की राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र की सरकार के पशुपालन विभाग, दिल्ली वेटरिनरी कौंसिल, दिल्ली वेटरिनरी एसोसिएशन और सोनाडी चैरिटेबल ट्रस्ट के साथ मिलकर किया जाता है। पिछले चार शिविर में हमलोगों ने हर साल 10,000 से ज्यादा भारतीय आवारा कुत्तों को टीके लगाए हैं। इसके रिकार्ड रखे गए थे और भारत के पशु कल्याण बोर्ड, पशुपालन विभाग और एमसीडी को दिए गए।
इस बार 28 सितंबर से 28 अक्तूबर के बीच हमारा लक्ष्य दिल्ली एनसीआर में 10,000 से ज्यादा आवारा कुत्तों को टीका लगाना है। इस दौरान हमलोग रेबीज को लेकर जागरूकता पैदा करेंगे और लोगों को इस बारे में शिवर के जरिए जानकारी देंगे। दिल्ली एनसीआर के कई पशु प्रेमियों ने हमारे साथ हाथ मिलाए हैं और हमारे शिविर के प्रति पूरा समर्थन दिखाया है। इस साल हमलोग आवरा कुत्तों को टीके लगाने के लिए दरवाजे-दरवाजे जाएंगे।
इस बार हमलोग सोशल मीडिया मंच जैसे फेसबुक और व्हाट्सऐप्प के जरिए अपने कैम्प के बारे में जागरूकता पैदा कर रहे हैं। इसके अलावा, पोस्टर-बैनर भी बनवाए गए हैं जिन्हें हम दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में भिन्न जगहों जैसे स्कूल, बाजार आदि में लगवा रहे हैं।
हमारे कार्यकर्ता उन लोगों के घर जाएगे जहां से हमें आवरा कुत्तों को टीके लगाने के लिए बुलाया जाएगा। टीका लगाने के बाद संबंधित व्यक्ति से एक छोटा सा फॉर्म भरवाया जाएगा और यह इस बात की पुष्टि होगी कि आवारा कुत्ते को टीका लगाया गया।
कर्नल रणधीर डे (रिटायर), डॉ. विजय कुमार, डॉ. भूपेन्दर चहल और डॉ. विक्रम यादव दिल्ली के उन जान-माने पशुचिकित्सकों में हैं जो इस निशुल्क एंटी रेबीज और जन जागरूकता शिविर के आयोजन से जुड़े हुए हैं। इन पशुचिकित्सकों के अलावा दिल्ली एनसीआर के और भी कई पशु प्रेमी और चिकित्सक इन शिविरों से जुड़े हुए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here