महिला बंदियों ने झूला झूलकर हर्षोल्लास से मनाया हरियाली तीज का त्यौहार।

0
949
हिसार, 13 अगस्त। केंद्रीय कारागार-2 में आज हरियाली तीज का त्यौहार बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। महिला बंदियों ने जेल परिसर में झूला झूलकर तथा नाच-गाकर तीज त्यौहार पर अपनी खुशी का इजहार किया। जेल प्रशासन के अधिकारियों व कर्मचारियों की देख रेख में आयोजित कार्यक्रम के दौरान जेल अधीक्षक संजीव पातड़ ने महिला बंदियों को भेंट स्वरूप उपहार व फल वितरित किए। इस अवसर पर जेल उप अधीक्षक राय साहब, नरेश बूरा, सहायक अधीक्षक विक्रम सिंह, लखविंद्र पाल सहित अन्य अधिकारी व कर्मचारी भी उपस्थित थे।
जेल अधीक्षक संजीव पातड़ ने जेल प्रशासन के सभी कर्मचारियों तथा जेल बंदियों को हरियाली तीज की शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि हमारे जीवन में त्यौहारों का बड़ा महत्व है। त्यौहार हमें आपसी भेदभाव को भुलाकर जीवन को नये सिरे से एक-दूसरे के प्रति प्रेम भाव रखते हुए जीने का संदेश देेते हैं। उन्होंने कहा कि हर त्यौहार पर कोई न कोई प्रतीकात्मक गतिविधियां आयोजित कर त्यौहार को बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। इसी प्रकार झूला झूलने को तीज के त्यौहार का प्रतीक माना गया है। इस दिन महिलाएं एकत्रित होकर झूला झूलकर अपनी खुशी का इजहार करती हैं। इसी कड़ी में महिला बंदियों के लिए हरियाली तीज के त्यौहार पर झूला झूलने की व्यवस्था की गई, ताकि महिला बंदी तीज के त्यौहार को खुशी के साथ मना सकें।
उन्होंने महिला बंदियों को संबोधित करते हुए कहा कि व्यक्ति में सकारात्मक ऊर्जा का होना बहुत ही जरूरी है, ताकि वह कठिन परिस्थितियों में भी आगे बढऩे में सक्षम हो सकें। उन्होंने कहा कि त्यौहार हमें यह संदेश देते हैं कि हमें आपसी मतभेद भुलाकर जीवन को एक नये रूप में जीने की शुरूआत करें। प्राचीन काल से त्यौहारों का हमारी संस्कृति में बड़ा ही महत्व रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here