मोब लिंचिंग कांग्रेस की संस्कृति: कैप्टन अभिमन्यु

0
841
नारनौंद, 22 जुलाई।
वित्त एवं राजस्व मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने कहा कि मोब लिंचिंग की संस्कृति कांग्रेस की देन है जिसने 1984 में दिल्ली को तथा पिछले साल जाट आरक्षण आंदोलन की आड़ में रोहतक, झज्जर सहित हरियाणा के कई हिस्सों को आग में झोंकने का काम किया। यह बात उन्होंने आज गांव कोथ खुर्द में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहीे।
वित्तमंत्री ने कहा कि भीड़तंत्र कभी भी लोकतंत्र का पर्याय नहीं हो सकता है। भीड़ को कभी भी लोकतंत्र का गला घोंटने की इजाजत नहीं दी जा सकती है। माननीय सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में संज्ञान लेते हुए सख्त निर्देश दिए हैं कि जो भी मोब लिंचिंग में संलिप्त पाया गया, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।
एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष रोहतक में जो आगजनी हुई थी उसकी सीबीआई जांच चल रही है और सीबीआई द्वारा जांच के बाद साक्ष्यों के आधार पर जो चार्जशीट दाखिल की गई है उसमें काफी चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। चार्जशीट में दर्ज ज्यादातर लोग पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा खेमे के समर्थक हैं। उन्होंने पूछा कि पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा इस बात का जवाब क्यों नहीं देते कि चार्जशीट में नामांकित लोगों से उनके क्या संबंध हैं।
कांग्रेस के पूर्व विधायक द्वारा कैप्टन अभिमन्यु को रोहतक में न घुसने देने की बात पर जवाब देते हुए वित्तमंत्री ने कहा कि चुनाव प्रचार के लिए वे देश के किसी भी कोने में जा सकते हैं और चूंकि रोहतक में उनका परिवार रहता है और वे हर हफ्ते रोहतक में दो रात गुजारते हैं। उन्होंने कहा कि ये लोग दबंगई की राजनीति करने के आदी हैं। इन्होंने अपने प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर पर भी हमला किया लेकिन मैं इनकी धमकियों से डरने वाला नहीं हूं। ये कहीं न कहीं उनका दंभ है जिसके कारण बल प्रयोग उनकी राजनीतिक संस्कृति में शामिल हो चुका है। उन्होंने कहा कि यदि भूपेंद्र हुड्डा नारनौंद में अपनी पार्टी के चुनाव प्रचार में आते हैं तो वे कभी भी उनको रोकने का प्रयास नहीं करेंगे। लोकतंत्र की गरिमा इसी में है कि हर व्यक्ति व हर राजनीतिज्ञ अपनी आवाज जनता तक पहुंचा सके। जोर-जबरदस्ती या किसी को डराने का प्रयास लोकतंत्र का अपमान है।
हरियाणा में कांग्रेस की सरकार आने की संभावना से संबंधित पूछे एक सवाल के जवाब में वित्तमंत्री ने कहा कि आप किस कांग्रेस की सरकार की बात कर रहे हैं। कोई कांग्रेस साइकिल पर सवार है तो कोई रुक-रुक कर रथ यात्रा कर रही है। कोई रेवाड़ी में सरकार बना रहा है तो कोई नरवाना और कोई कांग्रेसी सिरसा में सरकार बना रहा है। पहले ये एक हो जाएं फिर सरकार बनाने का सपना देखें।
जीएसटी संबंधी एक प्रश्न के जवाब में उन्होंने कहा कि पूरे विश्व में सबसे उपयुक्त व एतिहासिक कर व्यवस्था जीएसटी के रूप में एक साल पहले भारत में लागू की गई है जो 125 करोड़ लोगों के लिए एक टैक्स, एक राष्ट्र तथा एक बाजार की अवधारणा पर आधारित है। 20 साल से विभिन्न सरकारों द्वारा इसे लागू करने के प्रयास किए गए लेकिन इसे वास्तविक रूप देने की हिम्मत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की। उन्होंने कहा कि शुरू में इसके अलग-अलग स्लैब बनाए गए थे जिनकी दरों में समय के साथ जनहित के मद्देनजर कमी की जा रही है। उन्होंने कहा कि कल ही जीएसटी की 28वीं बैठक में महिलाओं, किसानों व मध्यवर्ग के हित में 100 वस्तुओं की दरों में कमी की गई है। इस बैठक में 93 प्रतिशत व्यापारियों के हित में रिटर्न दाखिल करने की भी सुविधा दी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here