भ्रष्टाचार का अड्डा बना नगर निगम गुरुग्राम, निगम के पार्षद और मेयर क्यों है मौन- पंकज डावर

Municipal Corporation Gurugram has become a den of corruption, why is the councilor and mayor of the corporation silent - Pankaj Dawar

0
72

गुरुग्राम, गुरुग्राम की विभिन्न कालोनियों में सड़कों के निर्माण में नगर निगम ने सैकड़ों करोड़ रुपए पानी की तरह बहाए हैं। लेकिन सड़क निर्माण में इतना अधिक भ्रष्टाचार किया गया है कि ज्यादातर कालोनियों की सड़कें महज 2 से 3 साल में ही उबड़ खाबड़ हो चुकी है। इसके पीछे सड़क निर्माण कार्य में किया गया भ्रष्टाचार सबसे बड़ा कारण है, यह आरोप कांग्रेस व्यापार सेल के चेयरमैन पंकज डावर ने निगम के ठेकेदारों, अधिकारियों, मेयर टीम और पार्षदों पर लगाए हैं। पंकज डावर ने कहा कि गुरुग्राम में कोई भी ऐसा वार्ड नहीं है जिन वार्डों की कॉलनियों में सड़कों का नया निर्माण नहीं किया गया हो। लेकिन नए निर्माण के बाद ही ज्यादातर कालोनियों की सड़कों में या तो बड़े-बड़े गड्ढे हो गए हैं या फिर सड़के खराब हो गई है। पंकज डावर ने कहा कि गुरुग्राम नगर निगम भ्रष्टाचार का सबसे बड़ा अड्डा बन चुका है, यहां अधिकारी हो या नेता हर कोई कमीशन पर काम कर रहा है। उन्होंने प्रशासन से मांग की है कि इस बार बीते निगम कार्यकाल के 4 सालों में निर्मित की गई सभी सड़कों की जांच होनी चाहिए। सड़कों की जांच के बाद निर्माण में इतना बड़ा भ्रष्टाचार किया गया है उसका दूध का दूध पानी का पानी अपने आप हो जाएगा। पंकज डावर ने कहा कि ज्यादातर कालोनियों में तो महज 1 से 2 साल पहले निर्मित की गई सड़के खराब हो चुकी है, इसके पीछे क्या कारण है, प्रशासनिक अधिकारियों को इसकी जांच करनी चाहिए। इस संदर्भ में जल्द ही वे बीते 4 साल के दौरान खराब हुई सड़कों को चिन्हित करके उसकी पूरी जानकारी एकत्र करेंगे और इसकी लिखित शिकायत करके जांच की मांग भी करेंगे। पंकज डावर ने यह भी कहा कि जिन वार्डों की नवनिर्मित सड़कें उबड़ खाबड़ हो चुकी हैं आखिर उसकी जांच की मांग वहां के पार्षद क्यों नहीं करते, नगर निगम में हो रहे भ्रष्टाचार का मुद्दा आखिर यहां के पार्षद क्यों नहीं उठाते यह अपने आप में ही एक बड़ा सवाल है। यह ऐसे सवाल है जो निगम पार्षदों पर भ्रष्टाचार में शामिल होने की तरफ इशारा करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here